नाम क्या दूँ मैं अपनी दीवानगी को.. बेचैनी दिल की तड़पने लगी है.. इस रवानगी से में क्या कहूँ.. जो हर पल तुम्हे याद करने लगी है।


Facebook Comments