जुदाई का वक़्त हमें बेक़रार करता है.. हमारे हालात हमें मजबूर करते हैं.. ज़रा हमारी आँखें तो पढ़ लो एक बार.. हम खुद कैसे कहें की आपसे बहुत प्यार करते हैं।


Facebook Comments