आपकी मुस्कान हमारी कमजोरी है.. कह ना पाना हमारी मजबूरी है.. आप क्यों नहीं समझते इस जज़्बात को.. क्या खामोशियों को ज़ुबान देना ज़रूरी है।


Facebook Comments